क्या चिट फंड में निवेश करना सुरक्षित है? डिजिटल चिट फंड Vs ऑफलाइन चिट फंड

Chit Funds

चिट फंड भारत में एक लोकप्रिय प्रकार की बचत योजना है। चिट फंड एक आवर्ती बचत योजना है जो एक सदी से भी अधिक समय से भारत की वित्तीय प्रणाली का हिस्सा रही है। चिट फंड बचत का एक तरीका है, जो लोगों को आसान उधार उपलब्ध कराने के साथ ही उनके निवेश पर ज्यादा रिटर्न देता है। आज इस  लेख के द्वारा हम बताएंगे कि चिट फंड कैसे काम करता हैं, क्या यह सुरक्षित है, इसके लाभ, इत्यादि ।

चिट फंड आपको बचत के साथ-साथ उधार लेने का भी लाभ देते हैं

क्या चिट फंड में निवेश करना सुरक्षित है?

चिट फंड की एक खराब प्रतिष्ठा है क्योंकि अतीत में भोले निवेशकों को धोखा देने के लिए इसका दुरुपयोग किया गया है। सरकार द्वारा संचालित और पंजीकृत चिट फंड हैं जिनमें निवेश करना सुरक्षित है। अपंजीकृत चिट फंड अपने सदस्यों को जमा की गई राशि का भुगतान करने के लिए कानूनी रूप से बाध्य नहीं हैं। इसलिए, वे धोखाधड़ी का अधिकतम जोखिम उठाते हैं।
  1. सरकार द्वारा संचालित और पंजीकृत चिट फंड में निवेश करना सुरक्षित है, क्योंकि भारत में चिट फंड कारोबार चिट फंड अधिनियम, 1982 के तहत विनियमित है।
  2. चिट फंड ऐक्ट में चिट फंड चलाने वालों के लिए खुद को राज्य सरकारों के साथ रजिस्टर कराना अनिवार्य हो गया है।
  3. पंजीकरण के दौरान, मालिक को चिट रजिस्ट्रार के पास एक सुरक्षा जमा राशि का भुगतान करना होता है, जो कि चिट मूल्य का 100% है।
  4. सुरक्षा जमा केवल तभी निकाला जा सकता है जब चिटफंड समूह बंद हो जाता है, और प्रत्येक सदस्य को भुगतान किया जाता है जो उन्हें भुगतान की जानी शेष है। इस प्रकार, यह विनियमन ग्राहकों द्वारा निवेश किए गए धन की रक्षा करता है।
  5. यदि धोखाधड़ी होती है, तो चिटफंड के रजिस्ट्रार और संबंधित राज्य सरकार चिटफंड कंपनी के मालिक के खिलाफ नियामक कार्रवाई कर सकती है।
चिटफंड पंजीकरण प्रमाण पत्र और चिट्स रजिस्ट्रार द्वारा जारी पंजीकरण संख्या की जांच करके सुनिश्चित करें कि चिटफंड पंजीकृत है और उसके बाद ही निवेश करें। मनी क्लब (Money Club) जैसे 100% डिजिटल, कानूनी, पंजीकृत और विनियमित चिट फंड प्लैटफ़ॉर्म में निवेश करना सुरक्षित और फायदेमंद है।

चिट फंड क्या है और यह कैसे काम करता है?

Kya Chit fund Surakshit hai

चिट फंड कैसे काम करता है

आइए एक उदाहरण की मदद से समझते हैं कि चिट फंड कैसे काम करता है

  1. मान लीजिए सुनील ने 20,000 रुपये का एक चिट फंड जॉइन किया। वह 20 महीनों के लिए हर महीने 1000 रुपये का योगदान करेगा। इस स्कीम में कुल 20 सदस्य होंगे, जो अपना-अपना योगदान देंगे।
  2. महीने के अंत में ऑक्शन होगा। ग्रुप का कोई भी सदस्य 20,000 के पॉट के लिए बोली लगा सकता है। पॉट की वैल्यू में से 5-7% कमिशन काट लिया जाएगा।
  3. सबसे कम बोली लगाने वाले को पॉट मिलेगा।
  4. मान लीजिए कि सुनील ने 1000 रुपये के डिस्काउंट पर बोली लगाई, वहीं रवि और सुनीता ने क्रमशः 700 और 500 रुपये के डिस्काउंट पर बोली लगाई।
  5. सबसे कम बोली लगाने वाले को अर्थात सुनील को पॉट मिलेगा। उसे 19,000(20,000-1000) रुपये का पॉट मिलेगा। अब इस 1000 रुपये के डिस्काउंट को सभी सदस्यों में बांट दिया जाएगा बतौर डिविडेंड।
  6. आने वाले महीनों में सुनील को अपनी 1000 रुपये का योगदान जारी रखना होगा।
  7. अपने इन्वेस्टमेंट पर आमतौर पर 7 से 10% की कमाई होती है।

तुरंत पैसे की जरूरत है तो याद रखे ये 9 टिप्स बिना उधार मांगे

सारांश

  • जिस व्यक्ति ने पहले महीने मात्र 1,000 रुपये जमा किए, उसे 19,000 रुपये का कर्ज आसानी से मिल गया।
  • फंड की वजह से लोगों को बेहद कम ब्याज दर पर कर्ज मिला और साथ ही बचत पर भारी निवेश भी।

चिट फंड में निवेश के लाभ

जब आपकी मेहनत की कमाई का निवेश करने की बात आती है, तो आपको फायदे के बारे में पता होना चाहिए। आइए चिट फंड में निवेश के कुछ फायदों पर चर्चा करें।

  1. चिट फंड एक निवेश और पैसे उधार लेने के उपकरण दोनों के रूप में काम करता है: जब आप मासिक किस्त का भुगतान करते हैं, तो आप उस पैसे का निवेश करते हैं और जब आप नीलामी जीतते हैं, तो आप बाद की किश्तों (भविष्य की बचत) के खिलाफ उधार लेते हैं।
  2. बैंकों या अन्य वित्तीय संस्थानों के विपरीत, चिट फंड आपको कोई औपचारिक संपार्श्विक (security) प्रदान किए बिना एकमुश्त राशि उधार लेने देता है।
  3. आपको उधार लिए गए पैसों का उपयोग करने के उद्देश को प्रकट करने की किसी भी तरह की कोई आवश्यकता नहीं है।
  4. ब्याज का दर भी बैंक की तुलना में बहुत कम होता है।
  5. चिट फंड से जुड़ना आसान है क्योंकि इसमे आईटी रिटर्न, पैन कार्ड आदि जैसे दस्तावेज (documents) नहीं जमा करने पडते हैं।
  6.  सदस्यों को एक लाभांश(dividend) मिलता है जो विभिन्न जमा योजनाओं में बचाए गए धन पर ब्याज से तुलनात्मक रूप से अधिक होता है।
  7. किसी वित्तीय आपात स्थिति (financial emergency) से निपटने के लिए आपको आसानी से पैसा मिल सकता है।

मनी क्लब डिजिटल चिट फंड प्लेटफॉर्म के साथ कमाई शुरू करें

डिजिटल चिट फंड Vs ऑफलाइन चिट फंड

अधिकांश पारंपरिक चिट फंड कंपनियां बहुत कम या बिना ऑनलाइन उपस्थिति के ऑफ़लाइन काम करती हैं। इसलिए, यदि आपको किसी चिट फंड योजना में नामांकन करना है, तो आपको शाखा में जाना होगा या आपको पंजीकृत करने के लिए एजेंट के आपके घर आने का इंतजार करना होगा। इसके अलावा, ये पारंपरिक चिट फंड कंपनियां किसी विशेष शहर, क्षेत्र या राज्य की सेवा करती हैं। इसका मतलब है, पारंपरिक चिट फंड कंपनियां भौगोलिक रूप से विवश हैं; यदि आप उस शहर, राज्य या क्षेत्र में नहीं हैं जहां पारंपरिक चिट फंड कंपनी संचालित होती है, तो आप सदस्य नहीं बन सकते। मनी क्लब पीयर-टू-पीयर चिट फंड प्लैटफ़ॉर्म एक सुरक्षित मोबाइल प्लेटफॉर्म है। यह पूरे भारत के समान विचारधारा वाले लोगों के समूह में शामिल होने का अवसर प्रदान करता है ताकि पैसे की बचत या निवेश शुरू किया जा सके। जरूरत के समय, लोग पैसे उधार भी ले सकते हैं जो कि उन्होंने जो निवेश किया है उसका गुणक है। प्लेटफॉर्म पर पैसा जमा करना शुरू करने से पहले सभी सदस्यों को मनी क्लब द्वारा सत्यापित (verify) किया जाता है।
  • डिजिटल (Online) चिट फंड संचालन में आसानी, उच्च तरलता, कम जोखिम, अच्छे रिटर्न और न्यूनतम कागजी कार्रवाई के कारण, ऑनलाइन चिट फंड योजनाएं लोकप्रियता में बढ़ रही हैं।
  • पंजीकृत ऑनलाइन चिट फंड में उच्च स्तर की पारदर्शिता होती है, जो प्रौद्योगिकी संचालित, तेज और कुशल होते हैं। इस प्रकार, धोखाधड़ी की संभावना कम हो जाती है।
  • यह अधिक सुविधाजनक भी है क्योंकि उपभोक्ता ऑनलाइन शामिल हो सकते हैं, नीलामी कर सकते हैं और पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं और नीलामी और आय को वितरित करने के लिए शारीरिक रूप से मिलने की जरूरत नहीं है।
  •  मनी क्लब एक ऐसा ही पंजीकृत डिजिटल चिट फंड प्लेटफॉर्म (registered digital chit fund platform) है जहां आप पैसाबचाना या निवेश करना शुरू कर सकते हैं।
chit fund jarori hai

मनी क्लब कैसे अलग है पारंपरिक चिट फंड कंपनियां से

  • मनी क्लब 100% ऑनलाइन प्रक्रिया के साथ भारत का सबसे अच्छा एआई-संचालित ऑनलाइन चिट फंड प्लेटफॉर्म है, जो सुरक्षित और सुगम पीयर-टू-पीयर लेंडिंग अनुभव सुनिश्चित करता है।
  • प्लेटफॉर्म पर पंजीकरण, सत्यापन, बोली, लेन-देन और लगभग सभी चीजें भारी कागजी कार्रवाई की परेशानी के बिना ऑनलाइन की जा सकती हैं, इस प्रकार आपके समय और प्रयास की बचत होती है।
  • पारंपरिक चिट फंड के विपरीत, मनी क्लब में एक परिवर्तनीय कमीशन संरचना होती है जो चिट राशि के 4% से शुरू होती है और ग्राहक के प्रदर्शन के आधार पर5% तक कम हो जाती है।

ऑनलाइन पैसा कमाने की वेबसाइट से हर महीने 20000 रुपये – 50000 रुपये कमाए

निष्कर्ष

  • एक पंजीकृत (registered) चिट फंड में निवेश करना निवेशकों के लिए एक अच्छा वित्तीय निर्णय है क्योंकि उनकी परिपक्वता अवधि (maturity period) आमतौर पर कम होती है और योगदान राशि छोटी होती है जिससे वे आसानी से जमा कर लेते हैं।
  • नियमित किश्तों का भुगतान करने से आपको अपने वित्त में अनुशासन लाने में मदद मिलेगी और यह आपात स्थिति में धन का एक विश्वसनीय स्रोत हो सकता है।
  • चिट फंड कैसे काम करता हैं, उम्मीद है आपने समझ लिया होगा, हालांकि, निवेश करते समय सुनिश्चित करें कि आपकी चिट फंड कंपनी पंजीकृत है या नहीं।
  • निवेश करने से पहले आपको यह जांचना चाहिए कि कंपनी के प्रोमोटरकौन हैं और क्या वे भरोसेमंद हैं या नहीं। फिर ही निवेश करें।