ज्यादा इनकम के बाद भी आपकी आर्थिक समस्या क्यों खत्म नहीं होती?

आर्थिक समस्या

मंदीप एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करता है और प्रति माह 50 हज़ार कमाता है लेकिन फिर भी वह अपने वित्त के बारे में चिंतित है। बार-बार उसके मन में यह ख्याल आता है कि जब मैं अपने करियर की शुरुआत में 25 हजार कमाता था तब भी किसी तरह महीने का खर्चा चला पाता था और आज उससे दोगुना कमाता हूं तो भी पैसे कम हैं।

दोस्तों, क्या आप मनदीप की इस स्थिति से रिलेट कर पा रहे हैं?

क्या आपके साथ भी ऐसा ही हो रहा है – आपकी आमदनी तो बढ़ रही है लेकिन फिर भी आपकी आर्थिक परेशानियां खत्म नहीं हो रही हैं।

जी हां, यह एक कड़वा सच है कि सिर्फ आमदनी बढ़ने से आर्थिक परेशानियां खत्म नहीं हो जातीं!

लेकिन चिंता न करें, इस समस्या का सामना करने वाले आप अकेले व्यक्ति नहीं हैं, बल्कि कई अन्य लोग भी आपके साथ हैं।

हां, अमेरिका में GO Banking Rates द्वारा किए गए एक हालिया सर्वेक्षण में, यह पाया गया है कि लगभग आधे अमेरिकी पेचेक से पेचेक जीते हैं। तनख्वाह से तनख्वाह जीने का मतलब है कि आपको हर महीने जितनी तनख्वाह मिलती है, वह सब उसी महीने में खत्म कर देते हैं और कुछ भी बचत नहीं करते।

Read: Social Community जहां लोगों को वित्तीय संकट में मदद मिलती है

Savings Group: वित्तीय समावेशन का एक वैकल्पिक समाधान

अपने सभी आर्थिक समस्या के लिए पहले वित्तीय समुदाय में शामिल हों।

हमें वित्तीय समस्याओं का सामना क्यों करना पड़ता है?

तो चलिए आज इस लेख में हम ऐसी ही 7 बातें जानेंगे जिनकी वजह से आप अच्छी आमदनी होने के बावजूद हमेशा अपने पैसों को लेकर परेशान रहते हैं:

1. आप फाइनेंशियल प्लानिंग नहीं करते हैं

अपने पिछले लेख में मैंने परिवारों के लिए वित्तीय नियोजन के महत्व के बारे में बताया है। दुर्भाग्य से, ज्यादातर लोग यह महत्वपूर्ण काम नहीं करते हैं, खासकर अपने करियर के शुरुआती दिनों में, और यही कारण है कि उन्हें अक्सर वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

इस लेख को जरूर पढ़ें और जल्द ही इस दिशा में कुछ कदम उठाएं।

Read: Financial Planning in Hindi: फाइनेंसियल प्लानिंग के Steps and Tips

Financial Goal Planning: वित्तीय लक्ष्य कैसे तय करें

2. आप पहले खुद को pay नहीं करते

तनख्वाह आते ही आप सबसे पहले अपनी एक महीने की मेहनत का भुगतान खुद करें। यानी आप कुछ पैसे निकालकर अलग रख दें और बाकी के पैसे खर्च कर दें। उदाहरण के लिए: आप अपनी सैलरी क्रेडिट होने के 2-3 दिन बाद सेविंग स्कीम शुरू कर सकते हैं और खुद को अपनी मेहनत का इनाम दे सकते हैं।

मैंने पाया है कि ऐसी कोई भी बचत व्यवस्था करना जिसमें आपके खाते से पैसा अपने आप कट जाए, सही है। ऐसा नहीं होने पर पैसा कहीं और खर्च हो जाता है।

Read: 8 एक्सपर्ट वेल्थ क्रिएशन टिप्स Wealth Creation Tips in Hindi

3. आप कल की जरूरतों से ज्यादा आज की खुशियों को महत्व देते हैं

5,000 रुपये बचाने के बजाय, आप 15,000 रुपये का नया मोबाइल खरीदने में विश्वास करते हैं, वह भी तब जब आपका पुराना मोबाइल सही हो! “पल में जीना” का दर्शन तभी लागू होता है जब “भविष्य के लिए वित्त” बरकरार हो। लेकिन आप पहले भाग पर ही विश्वास करते हैं और दूसरे भाग को भूल जाते हैं!

ऐसा न करें, इन दोनों के बीच संतुलन बनाना बहुत जरूरी है। ऐसा करने से आप काफी आर्थिक तनाव से बच सकते हैं।

दुनिया के सबसे सफल निवेशकों में से एक वॉरेन बफे की यह बात हमेशा याद रखें-

“खर्च करने के बाद जो बचता है उसे मत बचाओ, बल्कि बचत करने के बाद जो बचता है उसे खर्च करो।”

अपनी धन संबंधी समस्याओं का समाधान चाहते हैं? संकट में सहायता करने वाले मित्रों के पहले समुदाय से जुड़ें।

4. आप 'चाहत' को 'जरूरतों' से अलग नहीं करते

आवश्यकता : कोई ऐसी वस्तु जिसके बिना कोई कार्य न हो सके।

चाहते हैं: कुछ ऐसा जो आप चाहते हैं कि आपके पास हो लेकिन उसके बिना कर सकते हैं।

जो लोग वित्त के बारे में चिंतित हैं वे अपनी आवश्यकता को भी एक आवश्यकता बना लेते हैं। उदाहरण के लिए: वास्तव में आपको एक कार की जरूरत होती है, लेकिन एक हैचबैक के बजाय जिसे आप आराम से वहन कर सकते हैं, आप एक एसयूवी को अपनी जरूरत बनाते हैं और फिर वर्षों तक उसका कर्ज चुकाते हैं।

केवल दिखावे के लिए कभी भी कुछ न लें, ऐसा करने से आपको कुछ दिनों के लिए खुशी मिल सकती है लेकिन लंबे समय में यह आपके लिए समस्याएं ही पैदा करेगा।

Read: 7 वित्तीय टिप्स जो हमें 30 साल की उम्र तक पता होना चाहिए

5. आप खर्चीले हैं

आप आर्थिक रूप से चिंतित हैं क्योंकि आप खर्च करने का आनंद लेते हैं। आपके घर के हर कोने में कोई न कोई चीज पड़ी रहती है जो आवेग की खरीदारी का परिणाम है। आपकी अलमारी ऐसे कपड़ों से भरी पड़ी है जिन्हें आपने शायद ही एक या दो बार पहना हो। आपकी दराज में ऐसे मोबाइल फोन पड़े हैं जिनका इस्तेमाल आपने एक साल से भी नहीं किया है। आपको बाहर का खाना-पीना इतना अच्छा लगता है कि आप हफ्ते में दो बार बाहर का खाना खाते हैं या घर पर मंगवाते हैं।

यदि आप आर्थिक रूप से स्थिर जीवन चाहते हैं, तो खर्चीले न बनें, मितव्ययी बनें, अर्थात सोच समझकर खर्च करें।

पढ़ें: बाइक खरीदना चाहते हैं? पर्सनल लोन, बाइक लोन, क्रेडिट कार्ड या सेविंग?

क्या ट्रेवल लोन /Travel Loan लेना एक अच्छा विचार है?

6. आप जितना कमाते हैं उससे ज्यादा खर्च करते हैं

यह कैसे संभव है? बिल्कुल, आपकी जेब में पड़े हैं 3-3 क्रेडिट कार्ड! दरअसल, आप सैलरी का बड़ा हिस्सा पिछले महीने के क्रेडिट कार्ड बिल के लिए ही बचाते हैं। और इस महीने की शुरुआत क्रेडिट कार्ड से खरीदारी के साथ करें। इस तरह आप हमेशा कर्ज-जाल में फंसे रहते हैं।

क्रेडिट कार्ड न ही रखें तो बेहतर होगा, लेकिन अगर आपको एक रखना ही है तो एक ही रखें और वह भी अपने वॉलेट में नहीं और सिर्फ और सिर्फ इमरजेंसी में ही इस्तेमाल करें।

पढ़ें: क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान: जानिये जरूरी बातें

7. आप ना नहीं कह सकते!

एक व्यक्ति के रूप में आप पैसे के महत्व को समझते हैं लेकिन आप अपने परिवार के सदस्यों को “नहीं” नहीं कह पाते हैं। आप अपने जीवनसाथी के कहने पर कोई भी फिल्म देखने जाते हैं… आप अपने बच्चे की जिद को ना नहीं कह पाते और महंगे खिलौने खरीद लेते हैं.

ऐसा करके आप उन्हें आज कुछ खुशी जरूर दे रहे हैं, लेकिन आपको उनकी भलाई के लिए ‘ना’ कहना सीखना चाहिए ताकि न सिर्फ वर्तमान बल्कि भविष्य भी खुशियों से भरा हो। और एक कड़वी बात और मन में रखिये, अगर भविष्य में धन की कोई समस्या हुई तो आपके परिवार वाले उन सभी मनोरंजक पलों को भूल जायेंगे और कहीं न कहीं आपको इस स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जायेगा।

इसलिए आपको अपनी और अपने परिवार की खुशी के लिए कभी-कभी “नहीं” कहना सीखना होगा।

इसलिए अधिक पैसा बचाना और अपने पैसे का सही प्रबंधन करना ही वित्तीय मुद्दों का एकमात्र समाधान है।

 

और अगर आप अब तक ऐसा नहीं कर रहे थे तो कोई बात नहीं, अतीत को बदला नहीं जा सकता… लेकिन भविष्य को हमेशा बेहतर बनाया जा सकता है। और भविष्य को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए जिस एक चीज पर मैं बहुत जोर देता हूं वह है बचत।

आपकी धन संबंधी समस्याओं का समाधान करने वाला पहला सोशल नेटवर्क

बचत आपकी वित्तीय समस्याओं को कैसे कम या समाप्त कर सकती है?

मैंने खुद देखा और अनुभव किया है कि पैसे बचाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि हम ऐसी व्यवस्था स्थापित करें कि हर महीने हमारे खाते से पैसा अपने आप कट कर कहीं निवेश हो जाए।

आप कम से कम 200 रुपये से बचत योजना शुरू कर सकते हैं मनी क्लब के साथ। मनी क्लब एक बचत और उधार देने वाला मंच है जहां व्यक्ति सत्यापित साथियों के साथ पैसा जमा करते हैं। यह अब तक का पहला सामाजिक नेटवर्क है जो सदस्यों को पैसे कमाने, पैसे बचाने और आर्थिक रूप से एक दूसरे का समर्थन करने में मदद करने के लिए समर्पित है। मनी क्लब सदस्यों को खर्चों के लिए उधार लेने, विविध भुगतान करने, या प्रतिकूल परिस्थितियों से उत्पन्न आकस्मिकता के लिए धन प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। बचाने और ब्याज अर्जित करने के इच्छुक सदस्यों के लिए, यह मूलधन की सुरक्षा और संचालन में पारदर्शिता सुनिश्चित करता है।

आप न केवल समान विचारधारा वाले व्यक्तियों के एक सहायक नेटवर्क तक पहुंच प्राप्त करेंगे, बल्कि आपके पास अपने मित्रों और परिवार को हमारे समुदाय का संदर्भ देकर पैसे कमाने का अवसर भी होगा।

मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से यह पैसे बचाने और उन्हें बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका रहा है। इस प्लेटफॉर्म में निवेश करने पर किसी भी बैंक की एफडी, आरडी या इंश्योरेंस प्लान से बेहतर रिटर्न मिलता है। इसके साथ ही, कभी भी अपना पैसा निकालने की भी सुविधा है।

इसलिए, आपको मनी क्लब ऐप डाउनलोड करना होगा और बचत करना शुरू करना होगा। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपके द्वारा उठाया गया यह एक कदम आपकी आर्थिक समस्याओं को काफी हद तक कम या खत्म कर देगा। तो, बस इसके लिए जाओ!

आप हमारे वित्तीय समुदाय, Financial Saathi से भी जुड़ सकते हैं और एक सहायक नेटवर्क की शक्ति का हिस्सा बने!

Read: मनी क्लब प्लेटफॉर्म के बारे में जाने- Money Club Journey

मनी क्लब मोबाइल ऐप कैसे काम करता है?